Paise wale pyar ki ek kahani

love story

हेलो  दोस्तों यह स्टोरी एक ऐसी लव स्टोरी है जिसमें प्यार किसी इनसान के साथ नहीं बल्कि पैसे के साथ किया जाता है । आशा करता हूँ कि आप लोगों को यह स्टोरी बहुत पसंद आएगी।

एक बार एक लड़का होता है  जिसकी उम्र तकरीबन 25 साल की होती है। उस लड़के का नाम रौनी होता है। रौनी अपने समय में  BBA में ग्रैजुएशन कर रहा था। अपने कॉलेज के समय में ही रौनी को एक स्वेता नाम की लड़की से प्यार हो गया था। स्वेता की उम्र भी लगभग 23 साल की थी। स्वेता भी रौनी को बहुत प्यार करती थी। रौनी और स्वेता की लव स्टोरी की उस समय की बहुत अच्छी शुरुआत थी। रौनी अपने एक रहीस बाप का बेटा था। वह अपनी स्वेता के लिए कुछ भी करने के लिए तैयार रहता था।

स्वेता की जो भी डिमांड होती थी, रौनी उसे पूरी करता था। सिनेमा हॉल में पिक्चर्स दिखाना, महंगे से महंगे रेस्टोरेंट में खाना खिलाना, कार में बिठाकर लॉंग ड्राइव पर ले जाना या सी-बीच पर ले जाकर मस्ती करना , रौनी ये सब करता था। इस तरह की एकटिविटी से स्वेता रौनी से बहुत खुश रहती थी। लेकिन रौनी खुश नहीं था क्यूंकि इतना सब करने से रौनी खुश नहीं रहता था। रौनी एक पैसे वाला बन्दा है इतना सोच कर वो स्वेता से प्यार नहीं रौनी करता था। यही रौनी की लव स्टोरी थी। लेकिन किसमत में कुछ और ही होना था।

एक समय ऐसा आया था कि रौनी का घर बरबाद हो गया और उसके घर वालों के पास रहने के लिए अपना खुद का घर भी नहीं रहा। रौनी अब खुद फटे कपड़ों में रहता है  और पैरों में  स्लीपर का यूज करता है। करीब एक महीने बाद रौनी स्वेता से मिलने जाता है –

रौनी- हाय  स्वेता ! कैसी हो ?

स्वेता- (चौंकते हुए ) रौनी !  ये सब क्या हाल बनाया हुआ है तुमने। कहां गया तुम्हारा रहीस पना !

रौनी- कुछ नहीं यार, हालात ही कुछ ऐसे बन गए , तुमसे मिलने को दिल किया तो तुमसे मिलने आ गया । स्वेता मैं तुमसे आज भी बहुत प्यार करता हूँ जितना पहले करता था और मुझे तुम पर पूरा भरोसा है कि तुम भी मुझसे अब भी प्यार करती हो।

स्वेता- हां हां वो तो सब ठीक है लेकिन अब मेरा क्या होगा ?

रौनी- जब तक मैं हूं तब तक तुम्हें कुछ नहीं होने दूंगा ……….स्वेता मैं तुमसे शादी करना चाहता हूँ।

स्वेता- What????लेकिन तुम्हारे पास तो अब पैसे भी नहीं हैं, रहने के लिए खुद का मकान नहीं है और (धक्का देकर ) पहनने के लिए फटे कपड़े बचे हैं ? …तुम्हारे पास तुम्हारा ही फयूचर नहीं है तो मुझे कैसे खुश रखोगे ? …….जब तुम्हारे पास पैसे हो जाये तब मुझसे बात करना अब।…………..Get out from here.

ये सब सुनकर रौनी को बहुत बुरा लगा और अपनी आंखों में दो आंसू लेकर वहां से लौट गया ।

                                            दो साल बाद

अब रौनी बिल्कुल बदल गया था। रौनी  का अपना खुद का बंगला है  और एक बहुत बड़ी मल्टी नेशनल कम्पनी का मालिक है। अब रौनी बहुत बडा बिज़नेसमैन बन चुका है। एक सुबह रौनी घर से कोट पैन्ट पहनकर, काला चश्मा लगाकर, और BMW कार में बैठकर, 4 बॉडीगार्डस के साथ अपने ऑफिस जा रहा था कि रास्ते में उसे स्वेता मिल गई । स्वेता को देखकर रौनी  कार में से उतरा।

स्वेता – रौनी , सो सौरी ! अब मेरे पास आने का तुम्हारा कोई फायदा नहीं है ……..क्यूंकि मेरी शादी अब किसी और के साथ हो चुकी है। पता है मेरे हसवैन्ड एक बहुत बड़ी मल्टी नेशनल कम्पनी के मैनेजर हैं ….और पता है उनकी सैलेरी 5 लाख है रौनी 5 लाख !

तभी स्वेता का हसवैन्ड आ गया। और रौनी को देखकर बोला –  Good morning sir! सर आप यहां  ?

फिर स्वेता से बोला – स्वेता , जिस कम्पनी में मैं मैनेजर हूँ, रौनी सर वहाँ के ऑनर हैं।

ये सब सुनकर स्वेता की निगाहें नीचे हो गई।

रौनी ने अपनी कार की तरफ देखकर आवाज दी – जानू आओ, आज लॉग ड्राइव पर चलते हैं ।

कार में से रौनी की वाइफ उतर कर आई और बोली –  (रौनी के गालों चूमते हुए) जैसा आपको अच्छा लगे वहीं सही।

ऐसा नजारा देखकर स्वेता के होश उड़ गए।

 

If you like this story please share to your friends.

A story written by Lavi Garg.

Thank you !

 

Related posts

Leave a Comment